Shiksha aur Naitik Moolyon Ki Khoj (Hindi)

Categories: ,

495.00

2 in stock

Description

ऐसे समय में जब शिक्षा का व्यापक बाज़ारीकरण हो रहा है, यह पुस्तक एक नयी उम्मीद जगाती है | इस सम्बन्ध में यह कई अहम सवाल उठाती है, चिन्तनमूलक शिक्षा पद्धति की वकालत करती है और शिक्षा की संस्कृति के साथ गहरे नैतिक/दार्शनिक मुद्दों को जोड़ती है | स्कूली शिक्षा से लेकर उच्चतर शिक्षा तक यह ज्ञान, पाठ्यपुस्तकों और पद्धतियों, शैक्षणिक हस्तक्षेपों और सृजनात्मक संभावनाओं के वर्गीकरण और प्रसार पर रौशनी डालती है | दार्शनिक चिंतन, संवाद और समाजशास्त्रीय मीमांसा के साथ इसमें शिक्षा की ऐसी संस्कृति की कल्पना की गयी है जो आध्यात्मिक रूप से उदात्त/परिस्तिथितकिये रूप से संवेदनशील/समतामूलक समाज का निर्माण करने में सक्षम हो | यह पुस्तक समाजशास्त्रियों, शिक्षाविदों, पाठकों और अध्यापन कार्य से जुड़े तमाम लोगों के लिए अत्यधिक उपयोगी है |

Additional information

Author(s)

Pages

198

ISBN

Language

Hindi

Format

Hardbound

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.